Seo क्या है, Seo Kya Hai, कैसे करते हैं, How to Do Best Seo?

Seo kya hai, और कैसे करते हैं ये एक बहुत ही ट्रेंडिंग सर्च है गूगल पर। चले फिर देखते हैं

Seo क्या हैं ये सवाल हर एक ब्लॉगर के मन में होता है जो गूगल पर रैंक करना चाहता है लेकिन उन्हें ये पता नहीं होता है की Seo कैसे किया जाता है और वेबसाइट को गूगल में कैसे रैंक कराया जाता है इसीलिए आज मै आपको इस पोस्ट मेंSeo क्या हैं के बारे में डिटेल में बताने वाला हु तो अगर आप भी जानना चाहते है की seo kya hai aur seo kese kare .तो आप इस पोस्ट को लगातार पढ़ते रहिये।

हर एक ब्लॉगर चाहता है की उसका वेबसाइट गूगल में रैंक करे और वह से ट्रैफिक पा सके लेकिन उन सभी ब्लॉगर को यहाँ पता नहीं होता है की वेबसाइट को गूगल में रैंक कैसे किया जाता है  मै आपको यहाँ पर seo kya hai विस्तार में बताने वाला हूँ ।चलिए अब बात करते है की Seo क्या हैं। 

SERP क्या होता है ?

जब भी हम गूगल पर कुछ सर्च करते है तब हमें उस queries का रिजल्ट मिलता है। तब गूगल पर कई पेज आते है।जिसमे हमें google के 1st पेज पर  रिजल्ट आते है। इसे ही हम serp { search engine result page } कहते है।

Seo Kya hai

जैसा की आप इमेज में देख सकते हैं, ये सब सर्च रिजल्ट है जो 1 पेज पर रैंक है।

इनही वेबसाइट को हम गूगल सर्च इंजन पर हम रैंक कर देते हैं ये सब काम Seo की मदद से होता है। इसलिये Seo बहुत जरूरी है किसी भी बिजनेस ओनर्स के लिए।

सर्च इंजन  कैसे काम करता है?

चलिए अब हम जानते है की google का search engine कैसे काम करता है। दोस्तों ये एक बहुत ही important है जानना की आखिर search engine कैसे काम करता है चलिए detail में जानते है।

Crawling :- search इंजन में programs लगे होते है जिन्हे crawler कहा जाता ही ये गूगल सर्च इंजन में वेबसाइट को इंडेक्स करने के लिए पहुंचते है। 

Indexing :- अब यहाँ पर गूगल के database में crawl हुए सभी वेबसाइट को इंडेक्स किया जाता है जो की गूगल के algorithms अपने अनुसार इंडेक्स करते है।

Ranking  :- अब गूगल के search engine में लगे programs सभी इंडेक्स website को रैंकिंग करना सुरु करते है। अब यहाँ पर google algorithms अपने algorithms के अनुसार वेबसाइट को रैंकिंग फैक्टर के आधार पर रैंकिंग देना सुरु करते है। 

SEO क्या है ?

SEO यानि की search engine optimaization यह एक ऐसा process होता है जिसमे ब्लॉगर अपने वेबसाइट को search engine के लिए optimaize करता है जिससे वो वेबसाइट गूगल में रैंक कर सके। 

किसी भी ब्लॉग या वेबसाइट को बनाने का मकसद होता है की आप अपने ब्लॉग को रीडर्स तक पंहुचा सके। तो अगर आप अपने वेबसाइट को अपने रीडर्स तक पहुंचना चाहते है तो आपको अपने ब्लॉग या वेबसाइट का अच्छे से search engine optimaization करना होगा जिससे आपकी वेबसाइट गूगल में रैंक हो सके और यूजर उसे पढ़ सके। 

Google हमारे सामने search result को SEO यानि सर्च engine optimaization के जरिये पेश करता है गूगल के पास बहुत सारे सॉफ्टवेयर है जो करीब 200 + से ज्यादा factors के आधार पर हमें रिजल्ट शो करता है। अगर कोई वेबसाइट जो सबसे ज्यादा फैक्टर को पास कराती है वो गूगल में सबसे ज्यादा ranking पाती है तो जो वेबसाइट इन 200 + फैक्टर्स में सबसे ज्यादा पास कराती है वो ज्यादा रैंकिंग पाती है। 

Google कई अलग अलग factors का इस्तेमाल करता है जो 200 से भी ज्यादा फैक्टर्स पर डिपेंड कराती है ये factors कई तरह के है। किसी भी एक व्यक्ति के लिए इन सभी 200 + फैक्टर्स को टारगेट करना आसान नहीं है। इसलिए अगर आप कुछ इम्पोर्टेन्ट फैक्टर्स को टारगेट करते है तो आपकी वेबसाइट गूगल में हाई रैंकिंग पा सकती है। 

मै आपको यहाँ पर 2  important seo factors को बताने वाला हूँ जिससे आप गूगल में हाई रैंकिंग पा सकते है। 

मै आपको यहाँ पर 2  important seo factors को बताने वाला हूँ जिससे आप गूगल में हाई रैंकिंग पा सकते है। 

1 . CONTENT :- content google में रैंक करने का सबसे बड़ा फैक्टर होता है आपका कंटेंट गूगल में जितना पॉवरफुल होगा आप गूगल में उतना ज्यादा रैंक कर सकते है। आपका कंटेंट का लेंगट जितना ज्यादा होगा गूगल में आप उतना ही ज्यादा रैंक कर सकेंगे और वहा से आप फ्री में लाखो का ट्रैफिक पा सकते है। लेकिन आपका कंटेंट का वर्ड्स ज्यादा होने से नहीं होगा बल्कि आपको अपने पोस्ट में master quality content लिखे जिससे आपका वेबसाइट की रैंकिंग हाई हो और यूजर का ट्रस्ट और गूगल का ट्रस्ट और भी ज्यादा बढ़ सके।

2 . BACKLINKS :- backlinks google का सबसे बड़े रैंकिंग फैक्टर्स में से एक है। अगर आप गूगल में हाई रैंकिंग पाना चाहते है। लेकिन इस बात का ध्यान रखे की आप जहा से भी बैकलिंक्स बना रहे हो वो dofollow और high authritical website से होनी चहिये जिससे आपकी वेबसइट की रैंकिंग बढ़ सके।

अगर आप अपने वेबसाइट को गूगल में रैंक करना चाहते है तो आपको अपने वेबसाइट पर seo करना होगा और अगर आप इन 2 पॉइंट्स पर ध्यान देते है तो आपके वेबसाइट की रैंकिंग improve हो सकती है।

वेबसाइट या ब्लॉग को गूगल में रैंक करने के लिए SEO यानि की search engine optimaization की जरुरत पड़ती है तो अगर आप भी गूगल में रैंक करना चाहते है तो आपको भी google algorithms के बारे में जानकारी होनी चाहिए।

Seo करने से हमें क्या फायदा है?

Seo करने से बहुत सारे फायदे मिलते हैं। जिन्की लिस्ट आप देख सकते हैं।

  • Organic Traffic
  • Seo Leads
  • Website Authority
  • Brand Awareness

इसिके जैसे और भी अधिक फायदे होते हैं। आए अब एक-एक करके
फायदे के बारे में जानते हैं

Organic Traffic

Organic Traffic Seo के माध्यम से तब होता है जब हमारी वेबसाइट गूगल के 1 पेज पर दिखलाई देती है या रैंक होती है। इसी लिए हम एसईओ करता है

Seo Leads

अगर हम seo leads की बात करके है तो उसके लिए भी वेबसाइट पहले पेज पर होनी चाहिये साथ में हमारी वेबसाइट पे एक लीड फॉर्म लगा होना चाहिए जिससे हमें लीड मिल जाए। जैसा ही कोई यूजर वो फॉर्म भरेगा करेगा वो लीड काउंट हो जाएगा। इसिक साथ एक सवाल बनेगा है के How We Can Get Leads from Seo ये बहुत ही अच्छा सवाल है जो असली एसईओ करता है उसके लिए।

Website Authority

Seo के काम से बढ़ जाती है, अगर हम अच्छे backlinks बना रहे हैं तो website authority आसानी से बढ़ती है हो जाती है |

Brand Awareness

जैसे जैसे Seo का काम अच्छा होता जाता है, वेबसाइट ब्रांड प्रचार आसानी से हो जाता है।

Seo Kya hai कितने प्रकार का होता है?

आम तौर पर एसईओ 3 तरह का होता है|

  • ON page Seo
  • OFF page Seo
  • Technical Seo
  • Local Seo

On Page Seo kya Hota hai?

On Page Seo में हम Site Audit करते हैं ये एक बहुत जरूरी हिस्सा है। जो Main काम इसमे होता है वो है Keyword Optimization का या Meta Tags Optimization का जो हमें रैंकिंग लेन में मदद करता है।

On Page का Dusra काम मूल रूप से पूरी वेबसाइट का check up ka होता है, इसमे मुख्य रूप से कीवर्ड रीसर्च करने के bad हमें कीवर्ड को content में डालना hota hai। और अपना Website content अच्छी तरह से लिखना है।

Keyword को सही jagah का use करना बहुत जरूरी है जैसे Title, description first paragraph में और pure content me. और हमारा user intent भी clear होना बहुत जरूरी है के content किस लिए लिखा गया है |

साथ ही हमको Google Seo Updates को भी follow करना चाहिए। जैसे 2 अपडेट की हम बात कर लेते हैं।

ON Page Seo  कैसे  करे ?

1 . website speed :- ये तो हर एक ब्लॉगर जनता है की वेबसाइट को गूगल में रैंक करने के लिए वेबसाइट का स्पीड फ़ास्ट होना ही चाहिए। खुद गूगल भी इस बात को announce कर चूका है की गूगल में रैंक करने के लिए वेबसाइट का स्पीड मायने रखता है। तो अगर आप गूगल पर रैंक करना चाहते है तो आपको अपने वेबसाइट का speed को increase करना चाहिए। आप गूगल द्वारा बनाईगई एक टूल Pagespeed Insights  की मदद से अपने ब्लॉग या वेबसाइट का स्पीड को चेक कर सकते है। 

2 . Title Tag  :- आप जब भी कोई पोस्ट लिखे तो इस बात का ध्यान रखे की आपके वेबसाइट का title seo optimaized रखना चाहिए। जब हमारा कोई भी पोस्ट गूगल में रैंक करता है तो यूजर उस लिंक को क्लिक करने से पहले title को रीड करता है। तो आप अपने पोस्ट के title को seo optimaized रखना चाहिए।

3 . URL structure :- वेबसाइट को गूगल में रैंक करने के लिए आपके post का url structure को छोटा और क्लीन रखे।  google में अगर आपको रैंक करना है तो आपके url का structure बहुत मायने रखता है। जैसे :-

  •  www.example.com/2020/1/seo-kya-hai.html
  •  www.example.com/seo-kya-hai/

google हमेसा क्लीन और छोटा url को प्राथमिकता देता है इसलिए आप अपने वेबसाइट क छोटा ओऱ clean url structure को रैंकिंग देता है।

4 . ALT tag :- आप अपने वेबसाइट के हर इमेज में alt tag का इस्तेमाल करना चाहिए इससे आपके वेबसाइट का image भी गूगल में रैंक करता है। google का अल्गोरिथम ऐसा होता है जिसमे वो इमेज को समझ नहीं पता है इसलिए गूगल हमेसा images के alt tag का इस्तेमाल करता है इसलिए आप अपने वेबसाइट में हर पोस्ट के सभी images में alt tags का इस्तेमाल जरूर करे।

5 . content :- हम सभी अपने ब्लॉग्गिंग करियर में एक डायलॉग तो जरूर सुना होगा ” content is the king ” और हां ये डायलॉग बहुत हद तक सही भी है। ब्लॉग्गिंग में कंटेंट और high quality कंटेंट बहुत ज्यादा मायने रखता है। अगर आप हाई क्वालिटी कंटेंट अपने पोस्ट पर लिखते है तो ये गूगल में रैंकिंग फैक्टर में एक बहुत बड़ा + पॉइंट है।

6 . Keyword :- अगर आप अपने वेबसाइट में high quality कंटेंट देते है लेकिनअगर आप अपने पोस्ट में main keyword या focus keyword का use नहीं करते है तो आपको गूगल में रैंकिंग नहीं मिल सकता है। गूगल जब हमारे वेबसाइट को index करता है तो वो हमारे वेबसाइट के keywords पर ध्यान देता है तो अगर हम अपने पोस्ट में main focus keyword का इस्तेमाल करते है तो गूगल आपके पोस्ट को हाई रैंकिंग दे सकता है।

Factors of On Page Seo

In general Seo करने के लिए On Page ज्‍यादातर किया जाता है.उसके कुछ On Page Factors है जिसमे प्रमुख है

  • Meta tags optimization
  • Optimize headers
  • SEO Writing
  • Content Audit
  • Image Optimation
  • Add Sitemap
  • Add Robots.txt File
  • Add google analytics, search console
  • Website Speed Optimization
  • Structure Data
  • Website Structure
  • Url Structure

OFF Page Seo Kya Hai ?

अब चलिए हम वेबसाइट के off page seo के बारे में बात करते है। जिस तरह से on page seo वेबसाइट के रैंकिंग में important होता है उसी तरह off page seo भी search engine optimaization का एक बहुत ही important पार्ट होता है।

1 . submitt in search engine :- अगर आप अपने वेबसाइट का search engine optimaization अच्छे तरीके से करना चाहता है तो आपको अपने वेबसाइट को search engines में सब्मिट करना चाहिए। इससे आपको फ्री का बैकलिंक्स मिल जाता है और उन सर्च engines से भी आपको ट्रैफिक मिलता है।

2 . Boookmarking :- social bookmarking भी seo में एक बहुत ही important रोल प्ले करता है। गूगल के बहुत सारे फैक्टर्स में से bookmarking भी एक फैक्टर है। जिस भी वेबसाइट की bookmarking हाई होती है  उस वेबसाइट की Ranking भी हाई होती है।

3 . Directory submission :- आपको अपने वेबसाइट को अलग अलग directory में भी सब्मिट करना चहिये इससे आपके वेबसाइट को फ्री ट्रैफिक मिलता है और ये off पेज seo में भी बहुत इम्पोर्टेन्ट रोल प्ले करता है।

4 . social media sharing :- आपकी कौन सी पोस्ट को सोशल मीडिया पर कितनी बार शेयर किया गया है ये गूगल की रैंकिंग फैक्टर का एक इम्पोर्टेन्ट पार्ट है। आपके पोस्ट को सोशल मीडिया पर जितनी ज्यादा बार शेयर किया जायेगा ये आपके वेबसाइट के उस पोस्ट का रैंकिंग में उतना ही ज्यादा हेल्पफुल साबित होगा। 

5 . Qna site :- questions and answering sites को आप अपने ब्लॉग के लिए बहुत ही effectly यूज़ कर सकते है। आप qna जैसी वेबसाइट पर अकाउंट बनाकर वह पर सवालों के जबाब दे सकते है और वह पर अपने पोस्ट को एक लिंक भी दे सकते है। इससे आपको एक फ्री का high quality backlinks मिल जाता है जो आपके वेबसाइट के पोस्ट को रैंक करने में बहुत हेल्प फुल साबित होता है। 

6 . blog commenting :- blog commenting को आप एक फ्री बैकलिंक्स बनाने के तौर पर इस्तेमाल कर सकते है। आप ऐसे वेबसाइट का पता लगाए  जहा पर आप कमेंट कर के फ्री में बैकलिंक बना सकते है। यह आपके वेबसाइट को गूगल में रैंक करने में बहुत हेल्पफुल साबित होगा। 

7 . Guest post :- guest post एक बहुत ही effective तरीका होता है जिससे आप अपने अपने ब्लॉग के लिए बैकलिंक्स बना सकते है इसके लिए आप अपने niche से related किसी high authority वेबसाइट पर गेस्ट पोस्ट करके backlinks पा सकते है। 

Technical seo :- Technical seo भी search engine optimaization का एक बहुत important फैक्टर है। अगर आप अपने वेबसाइट का अच्छे से technical seo नहीं करते है तो ये आपके वेबसाइट के seo को बहुत effect करता है। Google पर ऐसे बहुत सारे Tools है जिससे आप अपने वेबसाइट के technical problems के बारे में find out करके उसे fix कर सकते है।

आप उसके लिए अपने वेबसाइट के search engine councle में जाकर पता कर सकते है और उसे फिक्स कर सकते है। और उसे fix कर सकते है। अगर आप अपने वेबसाइट का seo audit नहीं करते है तो आपको seo में बहुत सारी problems का सामना करना पड़ सकता है।

Local seo :- local seo एक ऐसा तरीका होता है जिसकी मदद से आप से आप अपने local audience को टारगेट कर सकते है। local seo से आप अपने वेबसाइट में अपना state , city और address detail को भी अच्छे से ऑप्टिमाइज़ करना होता है जिससे आप अपने वेबसाइट का लोकल ऑडियंस में online के साथ साथ offline भी ऑडियंस टारगेट कर सके।जब आप अपने वेबसाइट में local audience को target करने के लिए जब seo  करते है तो उसे  local seo कहते है।

Technical Seo Kya Hai?

इसमे हम पुरी वेबसाइट के Technical errors चेक करते हैं। जिसको ठीक करके हम अपनी वेबसाइट को जल्दी सर्च इंजन पर रैंक कर सकते हैं। इसमे कफी तरह की गतिविधियां होती है जिन्को हम करते हैं।

  • Technical Seo Checklist
  • Sitemaps
  • Robots.txt
  • Crawl Errors
  • Multiple Url’s Check
  • SSL Certificate
  • Minify CSS & Java Script Files
  • Image Optimization
  • Html errors
  • Indexing Issues

SEO कितने तरीके से किया जाता है ?

 मुझे उम्मीद है Seo क्या हैं  के बारे में अच्छे से समझ आ चूका होगा चलिए अब हम जानते है की सो कितने तरीके से किया जाता है। Seo करने के मुख्यत 3 तरीके है। मै आपको यहाँ पर उन तीनो तरीको के बारे में डिटेल में बताने वाला हूँ ।

  1.  white hat seo
  2.  black hat seo
  3.  gray hat seo

चलिए अब हम इन तीनो के बारे में डिटेल में बात करते है।

1 . white hat seo :-  यह एक ऐसा seo technique है जिसमे आप अपनै वेबसाइट का organically seo करते है। आप इस seo technique  में website पर हाई क्वालिटी कंटेंट  लिखकर और बैकलिंक्स  बनाकर ब्लॉग को SEO  के लिए optimaize करते है जिससे आँप अपनै वेबसाइट को गूगल पर रैंक कराकर ट्रैफिक पातें है।

2 . Black hat seo :- यह एक एसे seo technique है जिसमे आप अपने वेबसाइट कॉ negative  seo करते है। इस तरह के seo technique में google को आपके website को रैंक करने के लिए फाॅर्स करते है। यह आपके वेबसाइट के लिए सही नहीं है इससे आपकी वेबसाइट google द्वारा penalaized भी हो सकती है।

3 . gray hat seo :- gray hat seo ऐसा तकनीक है जिसमे एक ब्लॉगर अपने वेबसाइट का seo optimaized करते है। जिसमे वे तोडा black हित seo करते है जो gray hat seo के अंतर्गत आता है। इस तरह के वेबसाइट में ब्लॉगर गूगल में रैंक करने के लिए positive और negative दोनों तरह के seo करते है।

Google Updates Kya Hai Or Kitne types ke Hote Hai

Google Panda update

Panda Update 2011 मैं रिलीज हुई थी। jiska काम copy content को penalize करना था। इसिके bad से गूगल duplicate content को rank नहीं करता।

Google Penguin Update

Panda Update के अगले साल 2012 मे ये update आई थी Jiska काम मुख्य website मे keyword stuffing ya spammy links को penalize करना था। जjiske bad से google spammy links को penalize करता है

Leave a Comment